नयी दिल्ली. राष्ट्रमंडल खेलों के दो बार के कांस्य पदक विजेता मोहम्मद हुसामुद्दीन ने रविवार को जोर्डन के अम्मान में चल रही एएसबीसी एशियाई एलीट मुक्केबाजी चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में जगह बनाकर भारत के लिए एक और पदक पक्का किया.
क्वार्टर फाइनल में दक्षिण कोरिया के हेंगसियोक ली के खिलाफ हुसामुद्दीन (57 किग्रा) शुरुआत में पिछड़ गए क्योंकि विरोधी मुक्केबाजी ने पहले राउंड में उन्हें कुछ सटीक मुक्के लगाए.

उलटफेर की आशंका के बीच हसामुद्दीन ने अपने अनुभव का फायदा उठाते हुए वापसी की. उन्होंने अगले दो राउंड में आक्रामक रुख अपनाते हुए दबदबा बनाया और 5-0 से जीत दर्ज करते हुए भारत के लिए एक और पदक पक्का किया. हुसामुद्दीन 10 नवंबर को सेमीफाइनल में 2021 विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता सेरिक तेमिरजा से भिड़ंगे.

एक अन्य क्वार्टर फाइनल में थाईलैंड ओपन के स्वर्ण पदक विजेता अनंत चोपाडे (54 किग्रा) किर्गिस्तान के सेदेकमातोव सेनझाई के खिलाफ 0-4 की हार के साथ प्रतियोगिता से बाहर हो गए. रविवार को ही एशियाई चैंपियनशिप के पांच बार के पदक विजेता शिव थापा (63.5‘ॅ), अमित कुमार (67 किग्रा), गोंिवद कुमार साहनी (48 किग्रा), मोनिका (48 किग्रा) और सिमरनजीत कौर (60 किग्रा) अपने अपने क्वार्टर फाइनल के लिए ंिरग में उतरेंगे.

शनिवार रात अंकुशिता बोरो (56 किग्रा) और लवलीना बोरगोहेन (75 किग्रा) ने भी सेमीफाइनल में जगह बनाई. ओलंपिक कांस्य पदक विजेता लवलीना ने क्वार्टरफाइनल में कजाखस्तान की वालेनटिना खालजोवा पर जीत से सेमीफाइनल में जगह बनाते हुए पदक पक्का किया. लवलीना को पांच मुक्केबाजों के बीच कम से कम कांस्य पदक पक्का करने के लिये बस एक जीत की जरूरत थी और इस 25 साल की मुक्केबाज ने शनिवार देर रात खालजोवा पर विभाजित फैसले में 3-2 की जीत से सेमीफाइनल में जगह बनायी.

असम की मुक्केबाज ने तोक्यो ओलंपिक में 69 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता था. वह अब 75 किग्रा वर्ग में खेलने लगी हैं क्योंकि 69 किग्रा वर्ग पेरिस ओलंपिक में शामिल नहीं है. अंकुशिता ने भी सेमीफाइनल में जगह बना ली है. इस 22 साल की मुक्केबाज ने अंतिम आठ में जापान की सुबाता अर्सिया पर 5-0 से जीत हासिल की. पूजा (70 किग्रा) का हालांकि टूर्नामेंट में सफर खत्म हो गया. उन्हें कजाखस्तान की दारिगा शाकिमोवा से 0-5 से हार मिली.

youtube channel thesuccessmotivationalquotes