भगतसिंह और डॉ. भीमराव अम्बेडकर के बताए रास्ते पर चलने की अपील- धर्मेन्द्र बैरागी सचिव छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति

हसीब अख्तर 

रायपुर : कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेशवासियों शासन प्रशासन व कोरोना गाइडलाइन के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए 14 अप्रैल 2021 को भारतीय संविधान के रचयिता स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री डा. बाबा साहेब भीमराव आम्बेडकर जी कि जयंती के अवसर पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अपने अपने घरों में एक दीपक शाम को जरूर जलाए यही बाबा साहब को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष हुलास साहू, उपाध्यक्ष गोवर्धन पाल एवं सचिव धर्मेन्द्र बैरागी ने संविधान पर हो रहे साम्प्रदायिक फासीवादी हमले तथा देश में बढ़ रहे रोजगार संकट के खिलाफ नौजवानों को एकजुट होकर संघर्ष करने की अपील की।

उन्होने कहा कि “फूलों की कहानी बहारो ने लिखी, रातों की कहानी सितारों ने लिखी, हम नही है किसी के गुलाम क्योंकि हमारी कहानी बाबा साहेब अम्बेडकर ने लिखी” और हम आज किसी के गुलाम नहीं हैं, हमारे देश के हर नागरिकों की ऐसी कहानी बाबा साहेब ने लिखी है जिसमें शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार और आवास का अधिकार सबको मिला है, परन्तु पूरे देश को अपराधी माफिया -भ्रष्ट प्रशासन -भ्रष्ट राजनेता इन तीनो के गठबंधन ने जकड़ लिया है इसी गठबंधन को ध्वस्त करने के उद्देश्य से प्रदेश में छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति का गठन किया गया है, प्रदेश के युवा वर्ग समिति से जुड़कर देश के संविधान तथा लोकतंत्र की रक्षा के लिए तैयार हो कोकर संघर्ष में भागीदारी निभा सकते हैं, हम बाबा साहेब के जयंती के अवसर पर इंकलाबी नौजवान सभा द्वारा आयोजित युवा स्वाभिमान मार्च का नैतिक समर्थन करते हैं और उनके प्रेरणादायक नारा “उठो मेरे देश नये भारत के वास्ते, भगतसिंह-अम्बेडकर के रास्ते” को हम आत्मसात करते हैं।

धर्मेन्द्र बैरागी, सचिव छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति, रायपुर