AMU छात्र शरजील उस्मानी के खिलाफ पुणे में मामला दर्ज

vedantbhoomidigital
0 0
Read Time:2 Minute, 59 Second

नई दिल्ली : अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र शरजील उस्मानी के खिलाफ पुणे के स्वर्गेट पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है. ख़बरों से मिली जानकारी के मुताबिक यह मामला भारतीय युवा जनता मोर्चा के प्रदीप गावड़े की शिकायत के बाद दर्ज हुआ है. प्रदीप ने अपने स्टेटमेंट में पुलिस को बताया कि 31 जनवरी को “एल्गार परिषद 2021″ नाम का एक कार्यक्रम पुणे के स्वारगेट के गणेश कला क्रीड़ा रंगमंच के सभागृह में आयोजित किया गया था. इस कार्यक्रम के आयोजकों ने देश के अलग-अलग क्षेत्रों से लोगों को भाषण देने के लिए बुलाया था. उसी भाषण देने वालों में से एक अलीगढ़ मुस्लिम विद्यापीठ के शरजील उस्मानी का नाम भी था.

यह कार्यक्रम सुबह 11:00 बजे के आसपास शुरू हुआ जिसमें कुल 6 सत्र थे जिसमें से एक सत्र जोकि 4:00 बजे के आसपास शुरू हुआ उसमें भाषण देने के लिए शरजील उस्मानी को बुलाया गया. अपने भाषण में शरजील ने देश के बारे में कई आपत्तिजनक और भड़काऊ बातें कहीं.

शिकायत के मुताबिक शरजील उस्मानी ने कहा, ”आज का हिंदू समाज, हिंदुस्तान में हिंदू समाज बुरी तरह से सड़ चुका है, ये लोग लिंचिंग करते हैं, कत्ल करते हैं और कत्ल करने के बाद अपने घर जाते हैं, तो क्या करते होंगे अपने साथ? कोई नई तरीके से हाथ धोते होंगे, कुछ दवा मिलाकर नहाते होंगे ,क्या करते हैं. ये लोग वापस आकर हमारे बीच खाना खाते हैं, उठते-बैठते हैं फिल्में देखते हैं, अगले दिन फिर किसी को पकड़ते हैं और कत्ल करते हैं और नॉर्मल लाइफ जीते हैं. अपने घर में मोहब्बत भी कर रहे हैं अपने बाप के पैर भी छू रहे हैं मंदिर में पूजा भी कर रहे हैं फिर बाहर आकर वही करते हैं.”

भाषण के दौरान उस्मानी ने कहा, ”आई डोंट ट्रस्ट इन इंडियन ज्यूडिशरी, आई डोंट ट्रस्ट इन इंडियन एग्जीक्यूटिव, आई डोंट ट्रस्ट इन इंडियन पार्लियामेंट, इन ऑल आई डोंट ट्रस्ट इन इंडियन स्टेट.” पुलिस ने शरजील के खिलाफ आईपीसी की धारा 153-A के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Next Post

बिहार में हिंसक प्रदर्शनों में शामिल होने वालों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, नितीश सरकार का आदेश जारी

नई दिल्ली/पटना: बिहार में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन अब राज्य की जनता को खासकर युवाओं को भारी पड़ सकता है। ख़बरों के मुताबिक बिहार की नितीश सरकार ने एक तुगलकी फरमान जारी करते हुए कहा कि सूबे में हिंसक प्रदर्शनों में शामिल होने वालों को सरकारी नौकरी नहीं दी […]