कर्णेश्वर धाम में मेला के लिए मिलेगा सामुदायिक वन अधिकार पत्र : CM बघेल

vedantbhoomidigital
0 0
Read Time:5 Minute, 22 Second

मुख्यमंत्री ने की देऊरपारा में पक्की सड़क, तालाब सौंदर्यीकरण, सिहावा में राष्ट्रीयकृत बैंक जल्द शुरू करने की घोषणा

झीरम घाटी के शहीद अभिषेक गोलछा की स्मृति में शासकीय हाईस्कूल नगरी का होगा नामकरण

रायपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज धमतरी जिले के नगरी वनांचल में सिहावा पर्वत की गोद में बसे कर्णेश्वर धाम पहुंचे। यह ऐसा पहला अवसर है, जब प्रदेश का कोई मुख्यमंत्री माघी पुन्नी के अवसर पर यहां आयोजित मेले में पहुंचे। उन्होंने ग्यारहवीं सदी में सोमवंशी राजा कर्णराज द्वारा बनाए गए शिव मंदिर में पूजा अर्चना कर अन्य मंदिरों के भी दर्शन किए तथा प्रदेशवासियों की तरक्की और खुशहाली के लिए प्रार्थना भी की।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कर्णेश्वर महादेव ट्रस्ट द्वारा नवनिर्मित मुख्य द्वार का लोकार्पण किया। इस मौके पर उन्होंने अपने उद्बोधन में सप्तऋषि की तपोभूमि तथा प्रदेश की जीवनदायिनी महानदी के उद्गम स्थल के निकट लगने वाले कर्णेश्वर मेला के लिए स्थल की कमी को देखते हुए ग्राम पंचायत को सामुदायिक वन अधिकार पत्र देने कलेक्टर को निर्देश दिए। उन्होंने  महाभारत और रामायणकालीन घटनाओं से संबद्ध इस क्षेत्र में पहुंचकर हर्ष व्यक्त किया।

मुख्यमंत्री बघेल ने इस अवसर पर देऊरपारा में 800 मीटर पक्की सड़क बनाने की स्वीकृति देते हुए, सिहावा क्षेत्र में राष्ट्रीयकृत बैंक जल्द शुरू कराने, तालाब सौंदर्यीकरण कार्य के लिए दस लाख रुपए प्रदान करने की घोषणा भी की। इसके अलावा झीरम घाटी के शहीद अभिषेक गोलछा की स्मृति में नगरी स्थित शासकीय हाईस्कूल का नामकरण करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राम वन गमन पथ के तहत सिहावा क्षेत्र में पर्यटन का भी विकास किया जाएगा।

इस मौके पर प्रदेश के वाणिज्यिक कर (आबकारी) एवं उद्योग मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने अपने संक्षिप्त उद्बोधन में जन-जन के नेता प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में प्रदेश में किए जा रहे विकास कार्यों को सराहा। सिहावा विधायक एवं मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण की उपाध्यक्ष तथा कर्णेश्वर महादेव मंदिर ट्रस्ट की पदेन संरक्षक डॉ.लक्ष्मी ध्रुव ने क्षेत्र की जनता की ओर से मुख्यमंत्री का अभिनंदन करते हुए आभार प्रकट किया। उन्होंने पिछले दो सालों में आमजन, किसानों, युवाओं और महिलाओं के लिए संचालित की जा रही योजना और उनके विकास के लिए प्रतिबद्ध राज्य सरकार के कार्यों की जानकारी भी अपने उद्बोधन में दी। इस मौके पर कर्णेश्वर महादेव मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष विकल गुप्ता ने अभिनंदन पत्र पढ़ते हुए मुख्यमंत्री के समक्ष विभिन्न मांग रखी।

कर्णेश्वर धाम के मेला महोत्सव के अवसर पर नागरिक आपूर्ति निगम के चेयरमेन रामगोपाल अग्रवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष कांति सोनवानी, महापौर नगरपालिक निगम धमतरी विजय देवांगन, पूर्व विधायक धमतरी हर्षद मेहता, पूर्व विधायक सिहावा  अंबिका मरकाम,अशोक सोम सहित शरद लोहाना अन्य जनप्रतिनिधि, ट्रस्ट के सदस्य एवं ग्रामीण उपस्थित रहे। ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ की जीवनदायिनी महानदी के उद्गम स्थल सिहावा पर्वत तथा श्रृंगीऋषि की तपोभूमि के पास स्थित कर्णेश्वर धाम में कई सालों से माघ के महीने में पुन्नी मेला लगता आया है। जहां दूर-दूर से आए श्रद्धालु बालका और महानदी के पवित्र संगम स्थल में डुबकी लगाकर मंदिरों में दर्शन कर मन्नत मांगते हैं। इस पवित्र पूजा स्थल में भगवान शिव, गणेश, विष्णु, विश्वकर्मा के अलावा मर्यादा पुरूषोत्तम राम और जानकी के मंदिर हैं।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Next Post

लोक मड़ई है छत्तीसगढ़ की महत्वपूर्ण लोक परंपरा: मुख्यमंत्री बघेल

मुख्यमंत्री ने लाल बहादुर नगर के हायर सेकेण्डरी स्कूल भवन निर्माण की घोषणा की रायपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज डोंगरगढ़ विकासखंड के ग्राम लाल बहादुर नगर में दीप प्रज्वलित कर लोक मड़ई एवं कृषि मेला का शुभारंभ किया। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि लोक मड़ई छत्तीसगढ़ की महत्वपूर्ण […]

You May Like