कांग्रेस ‘मां-बेटे’ की पार्टी, परंपरा तोड़कर एक बार फिर हिमाचल में भाजपा की सरकार बनाएं: शाह

7

चंबा. केंद्रीय गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता अमित शाह ने मंगलवार को आरोप लगाया कि दिल्ली और हिमाचल प्रदेश में मां बेटे कांग्रेस को चला रहे हैं. उन्होंने पूछा कि आरोप पत्र में नामजद लोग राज्य में अच्छी सरकार कैसे दे सकते हैं? गृह मंत्री ने दिल्ली में कांग्रेस के नेताओं सोनिया गांधी व राहुल गांधी और हिमाचल प्रदेश में प्रतिभा सिंह तथा उनके बेटे विक्रमादित्य सिंह की ओर इशारा करते हुए यह टिप्पणी की.

शाह ने यह भी कहा कि लोकतांत्रिक भारत में ‘‘राजा-रानी’’ वाले दिन गए और यह आम लोगों का दौर है. उन्होंने यहां भट्टियाट से विधायक और 12 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार बिक्रम सिंह जरयाल के समर्थन में रैली को संबोधित करते हुए किसी दल की लगातार दो बार सरकार नहीं बनाने की परंपरा को तोड़ते हुए, एक बार फिर भाजपा की सरकार बनाने का आग्रह किया. शाह ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस नेताओं के भाषण सुने हैं और उनके पास हिमाचल प्रदेश की इस परंपरा पर भरोसा करने के अलावा कुछ नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘इस परंपरा को बदलें और प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बनाएं. इस परंपरा को तोड़कर दूसरी बार भाजपा की सरकार बनाएं और हम यहां मादक पदार्थों के धंधे को खत्म करके हिमाचल में नशा मुक्त सुनिश्चित करेंगे. (प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदीजी ने आजादी का अमृत महोत्सव में नशा मुक्त भारत का संकल्प लिया है.’’ शाह ने कांग्रेस पर ऊपरी और निचले हिमाचल के बीच विभाजन पैदा करने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘मैंने कांग्रेस नेताओं के भाषण सुने हैं. उनके पास \’रिवाज\’ (परंपरा) पर जोर देने के अलावा कुछ नहीं है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन राहुल बाबा, ऊपरी हिमाचल और निचला हिमाचल दोनों भाजपा से संबंध रखते हैं और ऐसा ही राज्य के हर कोने में है.’’ शाह ने कहा कि केंद्र में अपनी सरकार के दौरान कांग्रेस कुल 12 लाख करोड़ रुपये के ‘‘घोटालों’’ के लिए जिम्मेदार थी. गृह मंत्री ने कहा, ‘‘अभी भी संतुष्ट नहीं हैं, वे अब हिमाचल प्रदेश आ गए हैं. आरोपपत्र का सामना करने वाले कैसे राज्य में अच्छी सरकार दे सकते हैं?’’ उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा, ‘‘देश में लोकतंत्र है और राजा-रानी के दिन गए. यह आम लोगों का दौर है. हमें ऐसी सरकार चुननी है जो राज्य के विकास के लिए काम करे.’’ शाह ने कहा कि कांग्रेस नेताओं के भाषणों में विकास का कोई जिक्र नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली में, यह मां-बेटे की पार्टी है और यहां भी मां-बेटे की पार्टी है, इसमें युवाओं के लिए कोई जगह नहीं है. युवाओं के लिए केवल भाजपा में जगह है.’’ हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 12 नवंबर को मतदान होगा और आठ दिसंबर को मतगणना होगी.