रिश्वत लेने के आरोप में डिप्टी कलेक्टर और फॉरेस्टर गिरफ्तार

14

रायपुर. छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) के दल ने रिश्वत लेने के आरोप में डिप्टी कलेक्टर और एक फॉरेस्टर को गिरफ्तार किया है. एसीबी के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि एसीबी की टीम ने शुक्रवार को राज्य के गरियाबंद जिले में रिश्वत लेने के आरोप में एक डिप्टी कलेक्टर करुण डहरिया को तथा बिलासपुर जिले में फॉरेस्टर गजेन्द्र गौतम (45) को गिरफ्तार कर लिया.

उन्होंने बताया कि एक प्रार्थी ने एसीबी रायपुर में शिकायत की थी कि ग्राम पंचायत में बोर उत्खनन के लिए शासन से प्राप्त राशि छह लाख रुपये जारी करने के एवज में मुख्य कार्यपालन अधिकारी (डिप्टी कलेक्टर) डहरिया ने 20 हजार रुपये रिश्वत की मांग की थी.
अधिकारियों ने बताया कि शिकायत का सत्यापन होने के बाद दल को गरियाबंद भेजा गया और जैसे ही डहरिया ने प्रार्थी से रिश्वत के पैसे लिया एसीबी के दल ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

उन्होंने बताया कि इसी तरह एक अन्य प्रार्थी ने एसीबी बिलासपुर में शिकायत की थी कि फर्नीचर की दुकान की मियाद खत्म होने पर लाइसेंस नवीनीकरण के लिए उसने फॉरेस्टर गजेन्द्र गौतम से संपर्क किया था. गौतम ने प्रार्थी से 50 हजार रुपये रिश्वत की मांग की थी.

इसमें से 33,800 रुपये प्रार्थी ने प्रथम किस्त के रूप में गौतम को दे दिया था. अधिकारियों ने बताया कि गौतम द्वारा द्वितीय किस्त के रूप में 16,200 रुपये की मांग किए जाने पर प्रार्थी ने आॅडियो रिकॉर्डिंग कर लिया और गौतम की एसीबी में शिकायत कर दी.
शिकायत का सत्यापन होने के बाद गौतम को गिरफ्तार कर लिया गया. उन्होंने बताया कि दोनों अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है.