नयी दिल्ली. सेना के शीर्ष कमांडरों ने पांच दिवसीय सम्मेलन के तहत सोमवार को विभिन्न पहलुओं पर चर्चा शुरू की. इस दौरान वे चीन और पाकिस्तान से लगी सीमाओं पर भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों और 13 लाख सैनिकों वाली भारतीय सेना को मजबूती प्रदान करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे. सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे राष्ट्रीय राजधानी में 7 से 11 नवंबर तक होने वाले सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे हैं.

अधिकारियों ने कहा कि कमांडरों के सम्मेलन में क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति और रूस-यूक्रेन युद्ध के भू-राजनीतिक प्रभावों पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा. सेना के सूत्रों के अनुसार, सम्मेलन के दौरान प्रख्यात विषय विशेषज्ञ \’समकालीन भारत-चीन संबंधों\’ के साथ-साथ \’राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए तकनीकी चुनौतियों\’ पर चर्चा करेंगे. साथ ही सेना के क्षमता बढ़ाने और परिचालन तैयारियों को बढ़ावा देने के लिए विशिष्ट योजनाओं पर भी विचार किया जाएगा.

youtube channel thesuccessmotivationalquotes