तेलंगाना में कांग्रेस सत्ता में आयी तो किसानों का ऋण माफ होगा : राहुल गांधी

5

कामारेड्डी/मुंबई. कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की अगुवाई कर रहे वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि अगर उनकी पार्टी तेंलगाना में अगले चुनाव में सत्ता में आती है तो राज्य के किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा. यात्रा के तेलंगाना के कामारेड्डी जिले से महाराष्ट्र में प्रवेश करने से पहले जुक्कल विधानसभा सीट पर आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि तेलंगाना में अस्पतालों का निजीकरण किया जा रहा है और शिक्षा व्यवस्था को बर्बाद किया जा रहा है.

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘किसानों को समर्थन मूल्य नहीं मिल रहा है. कोई भी किसान यह महसूस नहीं करता कि खेती एक लाभदायक उद्यम है. संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार ने 70,000 करोड़ रुपये के कृषि ऋण माफ किए थे. हम वादा करते हैं कि जब हम सत्ता में आएंगे तो किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा.’’ उन्होंने आरोप लगाया कि तेलंगाना में सत्तारूढ़ टीआरएस सरकार संप्रग सरकार द्वारा लाए गए जनजातीय विधेयक को लागू नहीं कर रही है, जिसके तहत दलितों और आदिवासियों की कथित रूप से हड़पी गई जमीन उन्हें वापस कर दी जाएगी.

राहुल गांधी ने दावा किया कि भाजपा और टीआरएस के बीच गठजोड़ है और भाजपा जो भी विधेयक संसद में पेश करती है, टीआरएस उसका समर्थन करती है. गांधी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुछ मित्रों को लाभ पहुंचाने के लिए बीएचईएल और रेलवे जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों का निजीकरण कर रही है. कांग्रेस की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष रेवंत रेड्डी दोनों राज्यों की सीमा पर महाराष्ट्र में अपने समकक्ष नाना पटोले को राष्ट्रीय ध्वज सौंपेंगे.

कन्याकुमारी से सात सितंबर को ‘भारत जोड़ो यात्रा’ शुरू हुई थी, जो अपने 61वें दिन महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले के देगलूर में प्रवेश करेगी.
कांग्रेस द्वारा साझा किए गए कार्यक्रम के अनुसार, राहुल गांधी महाराष्ट्र की यात्रा के दौरान दो रैलियों को संबोधित करेंगे. पहली रैली नांदेड़ जिले में 10 नवंबर को और दूसरी रैली बुलढाणा जिले के शेगांव में 18 नवंबर को होगी.

यात्रा 14 दिन में राज्य के 15 विधानसभा और छह संसदीय क्षेत्रों से होकर गुजरेगी. इस दौरान 382 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी और 20 नवंबर को यह मध्य प्रदेश में प्रवेश करेगी. यात्रा कार्यक्रम के अनुसार, चार दिन नांदेड़ जिले में पदयात्रा की जाएगी. यह यात्रा 11 नवंबर को ंिहगोली जिले में, 15 नवंबर को वाशिम, 16 नवंबर को अकोला और 18 नवंबर को बुलढाणा से गुजरेगी.