भारत जोड़ो यात्रा : राहुल गांधी ने चार मीनार के सामने तिरंगा फहराया

6

हैदराबाद. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने हैदराबाद की पहचान चार मीनार के सामने मंगलवार को तिरंगा फहराया. करीब 32 साल पहले उनके पिता और तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष राजीव गांधी ने भी उसी स्थान से ‘सदभावना यात्रा’ की शुरुआत की थी. राहुल गांधी ने जब राष्ट्रीय ध्वज फहराया तब कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश, वरिष्ठ पार्टी नेता दिग्विजय सिंह, तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस समिति (टीपीसीसी) के अध्यक्ष रेवंथ रेड्डी भी मौजूद थे.

राहुल गांधी ‘भारत जोड़ो’ के नारे और सड़क किनारे खड़ी भीड़ के बीच चारमीनार पहुंचे. इस दौरान चारमीनार जाने वाली सड़कों पर बड़ी संख्या में पार्टी के झंडे के साथ कार्यकर्ता मौजूद रहे. इस मौके पर राहुल गांधी ने मंच पर पिता राजीव गांधी की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी. कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने बताया कि जिस स्थान पर राहुल गांधी ने तिरंगा फहराया है, उसी स्थान से 19 अक्टूबर 1990 को उनके पिता राजीव गांधी ने ‘सद्भावना यात्रा’ शुरू की थी.

उन्होंने कहा कि हर साल उस दिन कांग्रेस यहां तिरंगा फहराती है. रमेश ने कहा कि इस बार 19 अक्टूबर को हम यहां तिरंगा नहीं फहरा सके थे, इसलिए मंगलवार को राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया. राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘ 32 साल पहले, पापा ने चारमीनार से सद्भावना यात्रा की शुरुआत की थी. भारत की एकता और अखंडता के लिए उन्होंने अपनी जान की कÞुर्बानी दी थी. सद्भावना मानवता का सबसे अनुपम मूल्य है. मैं, और कांग्रेस पार्टी, इसे किसी विभाजनकारी ताकÞत के सामने टूटने नहीं देंगे.’’

उन्होंने इसके साथ ही झंडा फहराने का वीड़ियो भी अपने माइक्रोब्लॉंिगग मंच से साझा किया है. राहुल गांधी ने भारी भीड़ के बीच तिरंगा फहराया. उल्लेखनीय है कि ‘भारत जोड़ो’ नाम से चल रही यात्रा मंगलवार को शम्साबाद स्थित मठ मंदिर से शुरू हुई और दोपहर को विश्राम के लिए बदरपुरा के लीगेसी पैलेस के पास रुकी. रात को यात्रा बोवेनपल्ली के गांधी विचारधारा केंद्र पर रुकेगी.

रोहित वेमुला की मां ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में हुईं शामिल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कथित उत्पीड़न के बाद 2016 में आत्महत्या करने वाले दलित छात्र रोहित वेमुला को सामाजिक भेदभाव और अन्याय के खिलाफ अपने संघर्ष का प्रतीक बताया. रोहित की मां राधिका वेमुला मंगलवार को राहुल गांधी के साथ ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल हुईं. राधिका यात्रा के प्रात:कालीन चरण में गांधी के साथ कुछ समय के लिए चलीं.

राधिका वेमुला ने ट्वीट किया, ‘‘भारत जोड़ो यात्रा के प्रति एकजुटता दिखाई. राहुल गांधी के साथ चली और कांग्रेस से संविधान को भाजपा-आरएसएस (भारतीय जनता पार्टी-राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) के हमले से बचाने, रोहित वेमुला को न्याय दिलाने, रोहित अधिनियम पारित कराने, उच्च न्यायपालिका में दलितों का प्रतिनिधित्व बढ़ाने, सभी के लिए शिक्षा सुनिश्चित करने का आह्वान किया.’’ राहुल गांधी ने वेमुला की मां के साथ मुलाकात के बाद ट्वीट किया, ‘‘ रोहित वेमुला सामाजिक भेदभाव और अन्याय के विरुद्ध मेरे संघर्ष का प्रतीक है और रहेगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘रोहित की माताजी से मिलकर यात्रा के लक्ष्य की ओर बढ़ रहे कदमों को नया साहस और मन को नई शक्ति मिली.’’ कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर और पार्टी के कई नेताओं ने अपने ट्विटर खातों पर ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान राधिका वेमुला के गांधी के साथ चलने की तस्वीरें साझाा कीं. रोहित (26) की 17 जनवरी, 2016 को मौत हो गई थी. इस घटना ने उच्च शिक्षा संस्थानों में जातिवाद के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन छेड़ दिया था.

youtube channel thesuccessmotivationalquotes