लालच का फल , Hindi Short Stories

34
लालच का फल , Hindi Short Stories

Hindi Moral Stories For Kids: एक बार एक गाँव मे एक भेड़िया रहता था वो बकरी का दूध बेचकर अपनी आजीविका चलाता था
एक दिन वो अपनी बकरियों को लेकर गांव से किसी दूसरे स्थान पर चला गया और बकरियो को घास चरने के लिए वही बांध दिया
और शांति से बैठकर सोचने लगा

लेकिन उसको अचानक वहाँ एक गुफा दिखाई देती है वह उस गुफा की तरह जाता है तो उसका पता चलता है कि वहाँ भेड़ो का एक समूह है।
उसके मन मे लालच आ जाता है वो ये सोचता है अगर आज मैं इन बकरियो की जगह भेड़ो को लेकर जाऊ तो मेरी कमाई दोगुनी हो सकती है।
लेकिन तब तक बारिश आ चुकी थी
लेकिन लालच के आगे इंसान नही रुकता है
उसने बारिश की चिंता ना करते हुए घास काटना शुरू कर दिया

और जब घास का एक गट्ठर उसने बांध लिया तो वो उस गुफा की तरफ चला गया और थोड़ी थोड़ी घास उन भेड़ो को डालने लगा

अब उसने सोचा मेरा काम तो लगभग होने वाला है तो क्यो ना मैं
इन बकरियो की विदाई कर दू
उसने ऐसा ही किया
एक एक करके उसने बकरियो को खूंटे से खोल दिया धीरे धीरे सभी बकरियों का वहा से पलायन हो गया यानी कि बकरिया वहां से गायब हो चुकी थी वो गुफा के अंदर वापस जाता है।
तब तक वर्षा रुक चुकी होती है
वो भेड़ो को बांधने की कोशिश करता है लेकिन भेड़े धीरे धीरे करके वहाँ से दूसरी दिशा की ओर जाती हुई नजर आती है।

उसने उनको रोकने की बहुत कोशिश की
लेकिन वो उनको नही सम्भाल पाया क्योंकि
भेड़ो की संख्या काफी ज्यादा थी
उसको बहुत गुस्सा आ रहा था क्योंकि अब उसकी सभी बकरिया भी छू मंतर हो चुकी थी
वो जाती हुई भेड़ो को बोलता है कि तुमने मेरे साथ धोखा किया है मेने तुम्हारे लिए बारिश में भीगकर घास काटी और प्यार से खिलाई फिर भी तुम चली गयी

अब वो सोचने लगा कि गलती तो मेरी ही है,जो मेरे मन मे लालच आया
काश मेने उन बकरियो को नही छोड़ा होता तो आज मेरे पास मेरी प्यारी बकरिया होती
लालच का फल उसको मिल चुका था
इसलिए कभी भी हमे अपनी चीजो को छोड़कर दूसरी चीजों के पीछे नही भागना चाहिए
क्योंकि लालच के चक्कर मे हम ज्यादा पाने की इच्छा की वजह से अपना भी खो देते है।

[redirect url=’https://www.youtube.com/watch?v=yNpOwoxVgaA’ sec=’5′]