नयी दिल्ली. कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर सोमवार को उन्हें श्रद्धांजलि दी और आधुनिक भारत के निर्माण में उनके योगदान को याद करते हुए कहा कि 2014 के बाद नेहरू की प्रासंगिकता बढ़ी है. पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और कांग्रेस संसदीय दल की प्रमुख सोनिया गांधी ने नेहरू के स्मारक स्थल \’शांतिवन\’ पहुंचकर देश के प्रथम प्रधानमंत्री की जयंती पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी.

खरगे ने ट्वीट किया, \” पंडित नेहरू – आधुनिक भारत के निर्माता. 21वीं सदी की कल्पना उनके असीम योगदान को याद किये बिना नहीं की जा सकती.\” उन्होंने कहा, \”वह लोकतंत्र के पैरोकार थे. उनके प्रगतिशील विचारों ने चुनौतियों के बावजूद भारत के सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक विकास को मज़बूत बनाया. एक सच्चे देशभक्त को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि.\” पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नेहरू के एक कथन का उल्लेख करते हुए ट्वीट किया, ‘‘ ‘कौन है भारत माता? इस विशाल भूमि में फैले भारतवासी सबसे ज्Þयादा मायने रखते हैं. भारतमाता यही करोड़ों-करोड़ जनता है.’ पंडित नेहरू के इन्हीं लोकतांत्रिक, प्रगतिशील और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को दिल में ले कर चल रहा हूं, \’हिन्द के जवाहर\’ की भारत माता की रक्षा के लिए.’’

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, \”आज \’भारत जोड़ो यात्रा\’ का 68वां दिन है और नेहरू की 133वीं जयंती भी. हम अभी महाराष्ट्र के ंिहगोली जिले में हैं. संयोग से अंग्रेजÞी और ंिहदी के अलावा मराठी में भी उन पर एक अच्छी किताब आई है.\’\’ उन्होंने कहा, \’\’ इतिहास से छेड़छाड़ करने वाले, मौजूदा सरकार से जुड़े लोग उन्हें बदनाम और कलंकित करना जारी रखेंगे. लेकिन नेहरू प्रेरणा देते रहेंगे. उनकी प्रासंगिकता 2014 के बाद बढ़ी है.\’\’

रमेश के अनुसार, \”नेहरू की प्रतिष्ठित पुस्तक \’भारत एक खोज/ंिहदुस्तान की कहानी\’ की 600 प्रतियां आज यात्रियों को वितरित की जाएंगी. इन्हें बेहद कम समय में , चना पर एक स्वयंसेवक दिल्ली से 23 घंटे का सफर तय करके लाया है.\’\’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने ट्वीट किया, ‘‘संसद के केंद्रीय कक्ष में आज सुबह लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खरगे और 15 अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ जवाहरलाल नेहरू के चित्र पर पुष्प अर्पित किये. कोई केंद्रीय मंत्री या भाजपा का प्रमुख नेता मौजूद नहीं था.’’ राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने नेहरू को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी और उनके योगदान को याद किया. गौरतलब है कि नेहरू 1947 में देश के आजाद होने के बाद से 27 मई,1964 को अपने निधन तक देश के प्रधानमंत्री थे.

youtube channel thesuccessmotivationalquotes