एडीलेड. पाकिस्तान ने बेहतरीन गेंदबाजी प्रदर्शन की बदौलत रविवार को यहां ग्रुप दो के अपने महत्वपूर्ण हुए अंतिम मुकाबले में बांग्लादेश को पांच विकेट से हराकर टी20 विश्व कप के सेमीफाइनल के लिये क्वालीफाई किया. सुपर 12 चरण में भारत और जिम्बाब्वे से हार के बाद टूर्नामेंट से बाहर होने की कगार पर खड़ी पाकिस्तानी टीम के लिये उम्मीद तब जगी जब नीदरलैंड ने इसी स्थल पर हुए दिन के एक अन्य मैच में 13 रन की यादगार जीत से दक्षिण अफ्रीका को टूर्नामेंट से बाहर कर दिया.

नीदरलैंड की इस उलटफेर भरी जीत से सिर्फ भारत का ही सेमीफाइनल स्थान सुनिश्चित नहीं हुआ बल्कि इससे पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच मुकाबला ‘वर्चुअल क्वार्टरफाइनल’ बन गया जिसकी विजेता टीम अंतिम चार में पहुंचती. टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी बांग्लादेश की टीम ने मुश्किल पिच पर बायें हाथ के सलामी बल्लेबाज नजमुल हुसैन शांटो की 48 गेंद में 54 रन की पारी की बदौलत तेज शुरूआत की.

लेकिन बांग्लादेश की टीम अंत में रन नहीं जुटा सकी जिसमें शाहीन अफरीदी (22 रन देकर चार विकेट) की गेंदबाजी ने अहम भूमिका अदा की. अफरीदी के टी20 अंतरराष्ट्रीय में करियर के सर्वश्रेष्ठ पदर्शन से पाकिस्तान ने प्रतिद्वंद्वी टीम को आठ विकेट पर 127 रन के स्कोर पर रोक दिया. इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान ने नियमित अंतराल पर विकेट गंवा दिये जिससे टीम एक समय मुश्किल स्थिति में दिख रही थी. लेकिन शान मसूद ने संयम बरतते हुए टीम को 11 गेंद रहते जीत दिलायी.

पाकिस्तान ने अपने दोनों सलामी बल्लेबाज बाबर आजम (25 रन) और मोहम्मद रिजवान (32 रन) के विकेट जल्द ही गंवा दिये, जिसके बाद मोहम्मद हारिस ने 18 गेंद में 31 रन की महत्वपूर्ण पारी खेली. जब टीम को सात रन चाहिए थे तो हारिस गेंद को टाइम नहीं कर सके और बांग्लादेश के कप्तान शाकिबुल हसन को कैच देकर आउट हुए. पाकिस्तान ने इफ्तिखार अहमद के रूप में एक और विकेट गंवा दिया लेकिन तब जीत के लिये केवल दो रन चाहिए थे.

पाकिस्तानी कप्तान आजम कुछ रन बनाने के लिये बेताब दिख रहे थे. उनके सलामी जोड़ीदार मोहम्मद रिजवान को शून्य पर जीवनदान मिला जब बांग्लादेश के विकेटकीपर नुरूल हसन पहले ही ओवर में उनका कैच लपकने का मौका चूक गये. इन दोनों ने पहले विकेट के लिये 57 रन की भागीदारी की. लक्ष्य इतना बड़ा नहीं था तो रन रेट का दबाव भी नहीं था लेकिन पावरप्ले में शानदार गेंदबाजी करने वाले बायें हाथ के स्पिनर नासुम अहमद (14 रन देकर एक विकेट) ने 11वें ओवर में आजम का विकेट झटक लिया.

फिर इबादत हुसैन ने अगले ओवर में रिजवान को आउट किया. तब पाकिस्तान को जीत के लिये 48 गेंद में 59 रन बनाने थे. हारिस ने इबादत पर एक चौका और छक्का जड़कर शुरूआत की. इससे पहले शांटो ने टूर्नामेंट में अपना दूसरा अर्धशतक लगाया. इस दौरान वह बेहतरीन लय में दिखे और उन्होंने बड़ी सहजता से गेंद सीमारेखा तक पहुंचायी.

लिटन दास के जल्दी आउट होने के बाद शांटो और सौम्य सरकार (20 रन, 17 गेंद, एक चौका, एक छक्का) ने दूसरे विकेट के लिये 47 गेंद में 72 रन की साझेदारी निभाकर बांग्लादेश के लिये अच्छी नींव रखी. इस समय ऐसा लग रहा था कि टीम 150 रन से ज्यादा का स्कोर बना लेगी लेकिन फिर शादाब खान (30 रन देकर दो विकेट) ने विकेट गिराने का सिलसिला शुरू किया. इस लेग स्पिनर ने दो गेंद में दो विकेट झटक लिये जिसमें बांग्लादेशी कप्तान शाकिबुल हसन का शून्य पर संदिग्ध डीआरएस आउट होना भी शामिल रहा.

शांटो का ध्यान भंग नहीं हुआ और वह आराम से अपनी पारी आगे बढ़ाते रहे. इस तरह उन्होंने 46 गेंद अपने 50 रन पूरे किये. लेकिन पाकिस्तानी कप्तान बाबर आजम की आॅफ स्पिनर इफ्तिखार अहमद को गेंदबाजी पर लगाने की रणनीति कारगर रही जिन्होंने शांटो को आउट कर लगाम कसी. इस गेंदबाज ने तीन ओवर में 15 रन देकर एक विकेट हासिल किया. फिर अफरीदी ने दो ओवर में छह गेंद में मोसादेक हुसैन, नुरूल हसन और तास्किन अहमद के विकेट झटके. तेज गेंदबाज हारिस रऊफ ने भी अच्छी गेंदबाजी करते हुए 21 रन देकर एक विकेट प्राप्त किया.

youtube channel thesuccessmotivationalquotes