तीन चोर, Moral Stories In Hindi

35
तीन चोर, Moral Stories In Hindi

एक बार की बात है तीन चोर थे जो साथ साथ चोरी करते थे एक दिन उन्होंने गाव के किसी बड़े सेठ के यहां चोरी की
और खूब सारा धन चुरा लिया
और जंगल की तरफ भाग गए
वो एक नदी के किनारे पहुंचे लेकिन उनको भूख लगी
उनमें से एक चोर पास के दूसरे गांव में खाने का सामान लेने चला गया लेकिन उसके मन मे लालच आ गया उसने सोचा अगर मैं उनके खाने में जहर मिला दू तो सारा का सारा धन मेरा हो जाएगा और इससे मै ऐश करूँगा
लेकिन वही दूसरी तरफ बाकी के दोनों चोरो के मन मे लालच आ गया था वो भी ये चाहते थे कि अगर हम दोनों इसे मार दे तो आधा आधा धन हमे मिल जाएगा
सभी ने अपनी अपनी तैयारियां कर ली थी
अब जैसे ही तीसरा चोर भोजन लेकर पहुंचा तो बाकी के 2
चोरो ने तीसरे चोर के ऊपर आक्रमण कर दिया और उसको मार दिया
लेकिन जैसे ही वो भी भोजन करने के लिए बैठे तो वो भी मर गए
सीख
बुराई का अंत हमेशा बुरा बुरा ही होता है।