सुपेबेड़ा व आसपास के प्रभावित सभी गाँव के लोग सिर्फ पीने के लिए शुद्व पानी चाहते है वह भी उपलब्ध नही करा पा रही सरकार : कोमल हुपेंडी

रायपुर : तरफ “गढ़बो नवा छत्तीसगढ़” का ढोल पूरे प्रदेश में पीट रही है,किन्तु हकीकत ये है कि छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले स्थित सुपेबेड़ा सहित 9 गांवों के लोगों को सरकार आज तक शुद्ध पेयजल भी उपलब्ध नहीं करा पा रही है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी पूर्व में जब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष थे,सुपेबेड़ा में घर-घर जाकर तत्कालीन रमन सरकार से शुद्ध पेयजल,मृतक परिवार को 5 लाख मुआवजा और नौकरी की मांग किया करते थे।कांग्रेस की सरकार बनने पर पानी सहित सारी सुविधाएं देने का वादा किए थे।किन्तु आज भूपेश बघेल जी स्वयं सरकार के मुखिया होकर भी सुपेबेड़ा मामले पर गम्भीर नहीं हैं।

आम आदमी पार्टी की टीम ने 27 फरवरी को सुपेबेड़ा जाकर हालात का जायजा लिया।ग्रामीणों ने बताया कि अब तक सुपेबेड़ा में 130 लोगों की मृत्यु किडनी और लीवर डेमेज होने के कारण हुई है।यहां के बेटे बेटियों के विवाह के रिश्ते नहीं बन पा रहे हैं।आज हर परिवार में किडनी, लीवर जैसी बीमारियों से पीड़ित हैं।कई लोग आज भी गम्भीर अवस्था में हैं।कांग्रेस सरकार ने पूरी तरह सुपेबेड़ा वासियों को मरने के लिए छोड़ दिया है। कांग्रेस सरकार वर्ष 2017 में भाजपा सरकार के समय लगी वाटर फिल्टर प्लांट का फिल्टर तक बदल नहीं सकी है।
ग्रामीणों की मांग सिर्फ इतना है कि सरकार पीने के लिए शुद्ध पेयजल की व्यवस्था कर दे।

प्रदेश सचिव उत्तम जयसवाल ने बताया कि जब वे सुपेबेड़ा पहुचे तब उस दिन तीन घरों में एकसाथ दशगात्र का कार्यक्रम चल रहा था जिसे देख सभी साथी सिहर गए , उन्होंने कहा आज हम बात करे तो सुपेबेड़ा के साथ वे 9 गाँव जिनकी आबादी लगभग 5000 की है के हर घर मे एक या अधिक इस समस्या का शिकार मिलेगा अकेले सुपेबेड़ा जहां लगभग 1200 की आबादी है इस गांव में अबतक 130 लोगो की मौत होना वो भी पीने के शुद्व पानी न मिलने की वजह से ये बेहद शर्मनाक व निंदनीय है।

आम आदमी पार्टी ने आज प्रेस वार्ता की जिसमे सुपेबेड़ा गांव के निवासी त्रिलोचन सोनवानी जी को भी साथ मे रखा ।त्रिलोचन सोनवानी जी ने अपनी आपबीती बयान करते हुए बताया कि उनके खुद के परिवार के 17 लोग इस अव्यवस्था के शिकार हो चुके है ,उन्होंने बताया कि आज वे खुद एक मरीज को लेकर रायपुर आये है और मेकाहारा में इलाज चल रहा है उस मरीज के कोई नही बचा है माता पिता दोनों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है ।

आम आदमी पार्टी अब उनकी जायज मांग को लेकर ग्रामीणों को साथ मिलकर रणनीति बना रही है और इस लड़ाई को अंजाम तक पहुचायेगी सरकार के इस उदासीन रवैय्ये को देखते हुए आम आदमी पार्टी 9 मार्च को ग्राम सुपेबेड़ा के पीने के पानी को लेकर मुख्यमंत्री सहित प्रदेश के सभी कैबिनेट मंत्रियों को भेंट करेगी ताकि हकीकत वे खुद महसूस करे।